उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते Naat Lyrics

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते
ये हवाले मुझे रुस्वा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते

मेरे हर ऐब की करते हैं वो पर्दा-पोशी
मेरे जुर्मों का तमाशा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते

अपने मँगतों की वो फ़िहरिस्त में रखते हैं
सदा मुझ को मोहताज किसी का नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते है

ये ईमान के आएँगे लहद में मेरी
अपने मँगतों को वो तन्हा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते

नात पढ़ता हूँ तो आती है महक तयबा की
मेरे लहजे को वो मैला नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते

आप की याद से रहती है नमी आँखों में
मेरे दरियाओं को सहरा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते

हुक्म करते हैं तो मिलते हैं ये मक़्ते शाकिर !
आप न चाहें तो मतला नहीं होने देते

शायर: तन्वीरुल्लाह शाकिर

Submit by firdos khan

====================================

Unka Mangta Hoon Jo Mangta Nahin Hone Dete
Yeh Hawaale Mujhe Ruswa Nahin Hone Dete

Log Mushkil Mein Zamaane Ki Taraf Dekhte Hain
Hum Muhammad Ke Gharaane Ki Taraf Dekhte Hain

Mere Har Aib Ki Karte Hain Woh Parda Poshi
Mere Jurmon Ko Tamaasha Nahin Hone Dete

Apne Mangton Ki Fehrist Mein Rakhte Hain
Mujhe Mujhko Mohtaaj Kisi Ka Nahin Hone Dete

Naat Padhta Hoon To Aati Hai Mehek Taiba Ki
Mere Lehje Ko Woh Maila Nahin Hone Dete

Hai Yeh Imaan Ke Aayenge Lehed Mein Meri
Apne Mangton Ko Woh Tanha Nahin Hone Dete

Mere Halaat Hi Aaqa Mere Dushman Thehre
Mujhko Deedaar-E-Madina Nahin Hone Dete

Hukm Karte Hain To Milte Hain Yeh Maqte "Shakir"
Aap Na Chaahein To Matla Nahin Hone Dete

Unka Mangta Hoon Jo Mangta Nahin Hone Dete
Yeh Hawaale Mujhe Rushwa Nahin Hone Dete

Ghous-E-Aazam Mere Khwaja Mere Aala Hazrat
Yeh Sahaare Mujhe Gumraah Nahin Hone Dete

Submit By Syed Muhammad Sirajuddin Al-Qadri



Connect With us